प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स FREE PDF Download 2023-24

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम आपको प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स FREE PDF उपलब्ध कराने वाले हैं, जिसे आप नीचे दिए गए डाउनलोड लिंक पर क्लिक कर आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

प्राचीन भारत का इतिहास PDF के अंदर आपको Pre historic period, Proto-historic period, Vedic period, आदि के बारे में संपूर्ण जानकारी हम आपको इस आर्टिकल PDF के माध्यम से उपलब्ध करा रहे हैं।

यह भी पढ़े- साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF Download 2023-24

यदि आपको प्राचीन भारत का इतिहास के बारे में विस्तार पूर्वक अध्ययन करना हो तो आप इस आर्टिकल को ध्यान पूर्वक पड़े और यदि आप PDF डाउनलोड करना चाहे तो आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर PDF को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स
प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स

प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स FREE PDF Download

PDF Nameप्राचीन भारत का इतिहास नोट्स PDF
Size9.5 MB
Pages13
CategoryEducation(Ancient History)
Download LinkAvailable
Website Linkwww.pdfsamadhan.com
प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स FREE PDF
Download Now

Pre-Historic Period | प्रागैतिहासिक काल

प्रागैतिहासिक काल (प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स) को सबसे ऐतिहासिक काल माना जाता है और यह भी कहा गया है कि मानव जीवन की अस्तित्व इसी काल से माना जाता है।

मानवता का इतिहास घटनाओं और कहानियों का एक जटिल संग्रह है, फिर भी पहले रिकॉर्ड किए गए शब्दों के प्रकट होने से बहुत पहले एक प्रागैतिहासिक काल था।

यह युग, अक्सर रहस्य में डूबा हुआ, लाखों वर्षों तक फैला हुआ है और हमें हमारे पूर्वजों के जीवन की एक झलक देता है।

प्रागैतिहासिक काल में तीन युग बताए गए हैं जिनमें: Palaeolithic age, Mesolithic age, Neolithic age होते हैं, इस काल को Stone age भी कहा जाता है

1. पुरापाषाण युग(Palaeolithic age): -12000BC

पुरापाषाण युगको सबसे पुराना युग माना जाता है और इसी युग में मानव ने औजारों को बनाना सिखा, यह योग तीन भागों में विभाजित किया जाता है जिनमें:

  • Lower: Ice age इसे बर्फीला युग माना जाता है।
  • Middle: यह युग औजारों(Tools) का योग माना जाता है।
  • Upper: यह युग Homo sapiens का योग माना जाता है।

इस युग की शुरुआत Mirzapur, Soan valley, Bhimbetika, Didwana आदि स्थानों पर मानी जाती है, और इस युग में मानव जानवरों का शिकार करके अपना भोजन करते थे।

2. मध्यपाषाण युग(Mesolithic age):12000-10000BC

मध्यपाषाण युग पुरापाषाण और नवपाषाण युग के बीच हुआ। इसने तेजी से जटिल उपकरणों के विकास के साथ-साथ जीवन के अधिक स्थापित तरीके की ओर बदलाव देखा।

मध्यपाषाण युग में मछली पकड़ने, इकट्ठा करने और यहां तक कि प्रारंभिक प्रकार की कृषि में भाग लेने के लिए बेहतर थे क्योंकि उन्नत उपकरण विकसित किए गए।

इस युग(प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स) में तापमान बहुत अधिक होता था जिसके कारण मानव मीट मछली आदि का भोजन करना पसंद करते थे, मध्य पाषाण युग का मूल स्थान Bagor, Adamgarh माने जाते हैं।

मध्यपाषाण युग में चित्रकलाओं का भी अस्तित्व देखने को मिलता है जिसमें मानव के द्वारा दीवारों पर पत्थरों द्वारा बनाए गए चित्रकलाओं का प्रदर्शन देखने को मिलता है।

यह प्राचीन भारत के इतिहास(प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स) का सबसे महत्वपूर्ण योग माना जाता है जिसमें सबसे ज्यादा मानव सभ्यता में बदलाव देखे गए।

3. नवपाषाण युग(Neolithic age):10000-1900BC

कृषि क्रांति ने नवपाषाण युग को परिभाषित किया, मनुष्यों ने फसलों की खेती और जानवरों को पालतू बनाना शुरू कर दिया, जिससे स्थायी बस्तियों का निर्माण हुआ।

इस युग(प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स) मे मानव ने अपने घरों को बनाना सिखा और खेती करना सीख इसे कृषि क्रांति के रूप में भी जाना जाता है

इस युग के मूल स्थान Burzahom, Mahgarh, Piklihal, Chirand,माने जाते हैं।

Proto-Historic Period | आद्यऐतिहासिक काल (1900-600BC)

इस कल की खोज 1924 में जॉन मार्शल के द्वारा की गई जिन्होंने सबसे पहले Indus valley Civilization को खोज निकाला, जॉन मार्शल आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया(Archaelogical survey of india) के डायरेक्टर जनरल थे।

आद्यऐतिहासिक काल को मानव सभ्यता का मध्यकाल माना जाता है जिसमें मानव ने खेती, घर बनाना, वातावरण, अपनी भाषा, खाने की व्यवस्था आदि के बारे में नई तकनीक को शिखा।

आद्यऐतिहासिक काल मानव इतिहास के इतिहास में प्रागैतिहासिक और अभिलिखित इतिहास के बीच एक कड़ी के रूप में कार्य करता है।

यह महत्वपूर्ण अवधि रहस्य से घिरी हुई है, लेकिन समुदायों और संस्कृतियों के विकास पर इसके प्रभाव को कम करके नहीं बताया जा सकता है।

इस काल में बड़ी-बड़ी Civilizations का अस्तित्व सामने आया जैसे: Harappan Civilization, Mohenjodaro, Indus valley Civilization.

आद्यऐतिहासिक काल में समाज में विभिन्नताएं देखने को मिली व जो कस्बे बनाए गए उसमें उच्च नीच देखने को मिली।

इस काल(प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स) का अंत बदलते वातावरण व पेड़ों की कटाई, खाने की कमी और नदियों के सूख जाने के कारण यह काल में रहने वाले मानव वाजिब सभी समाप्त हो गए।

आद्य-ऐतिहासिक काल में, हम मानव इतिहास की शुरुआत पाते हैं जैसा कि हम आज जानते हैं। प्रागैतिहासिक काल से अभिलेखित इतिहास में परिवर्तन की विशेषता वाला यह युग, सभ्यता की हमारी समझ में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है।

इसके रहस्यों को उजागर करके, हम इस बात की गहरी सराहना प्राप्त करते हैं कि मानवता कितनी आगे आ गई है।

यह भी पढ़े-50000 GK Question PDF in Hindi Free Download [2023]

Vedic Period | वैदिक काल (1500-500BC)

वैदिक काल को वैदिक युग के रूप में भी जाना जाता है, लगभग 1500 ईसा पूर्व से 500 ईसा पूर्व तक फैला हुआ है, जिसमें भारी परिवर्तन और बौद्धिक विकास की समय सीमा शामिल है।

वेद के रूप में जाने जाने वाले प्राचीन ग्रंथों का निर्माण, जिसने भारतीय दर्शन, आध्यात्मिकता और संस्कृति की नींव रखी, महत्वपूर्ण है।

वेदों के प्रकार: Rigveda, Samaveda, Yajurveda, Atharvaveda, Brahmanas, Yazurved, Aranya, Upnishad, Upp puran, Puran, इन ग्रंथों में भजन, मंत्र और अनुष्ठान शामिल हैं जो पीढ़ियों से चले आ रहे थे।

वैदिक काल को दो कालों में विभाजित किया गया है:

Early vedic period:

इस वैदिक काल में Aryans होते थे, अथवा राज्यों को जनपद के नाम से जाना जाता था।

इस कल की अवधि 1500 से लेकर 1000 BC तक थी।

Later vedic period:

इस वैदिक काल में वर्ग सिस्टम काम करता था जिसमें, ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शुद्ध थे।

इस कल की अवधि 1000 BC से लेकर 500 BC के मध्य मानी जाती है।

वैदिक काल से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण शब्द: (प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स)

  • राजन (King)
  • सभा, समिति (Assembly)
  • पुरोहित (Priest)
  • सेनानी (Fighter)
  • बाली
  • वज्रपति (Pasture Lands)
  • कुलपास (Fathers)
  • ग्रामणी (Commander)
यह भी पढ़े- Article Kaise Likhe – हिंदी में आर्टिकल कैसे लिखे ? Easy Method

वैदिक काल ज्ञान, आध्यात्मिकता और संस्कृति का खजाना है जिसने भारतीय उपमहाद्वीप पर एक छाप छोड़ी है। इसका प्रभाव आधुनिक युग में भी बना हुआ है, जो प्राचीन ज्ञान की स्थायी शक्ति के प्रमाण के रूप में कार्य कर रहा है।

प्राचीन भारत का इतिहास: Video

FAQ- प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स

वैदिक काल क्या है?

वैदिक काल भारतीय इतिहास का एक प्राचीन युग है, जिसकी विशेषता वेद नामक पवित्र ग्रंथों की रचना और वैदिक संस्कृति और समाज का विकास है।

प्रागैतिहासिक काल का अर्थ क्या है?

प्रागैतिहासिक काल का अर्थ है इतिहास का पूर्व युग।

वैदिक काल को कितने भागों में विभाजित किया गया है?

वैदिक काल को दो भागों में विभाजित किया गया है: Early vedic period, Later vedic period

अंतिम शब्द

दोस्तों यह यह था प्राचीन भारत का इतिहास, के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप हमें कमेंट कर बताएं और आपकी सुविधा के लिए हमने PDF को संलग्न किया है

यदि आपको PDF(प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स) की आवश्यकता हो तो आप डाउनलोड लिंक पर क्लिक कर PDF को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

धन्यवाद

Also, read

5 thoughts on “प्राचीन भारत का इतिहास नोट्स FREE PDF Download 2023-24”

Leave a comment