साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF Download 2023-24

आज के इस आर्टिकल में हम आपको साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF को उपलब्ध कराएंगे, जैसा कि आपको पता है की साइकोलॉजी सभी Teaching व Non- Teaching एग्जाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, तो इसलिए हमने सोचा क्यों ना आपको साइकोलॉजी हिंदी नोट्स की पीडीएफ फ्री में उपलब्ध कराई जाए।

आने वाले तमाम एग्जाम उन सभी में साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होगी, सभी राज्यों के टीचिंग एग्जाम की नोटिफिकेशन जल्द ही जारी किए जाएंगे तो इसलिए यह पीडीएफ आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण साबित होगी।

यह भी पढ़ें- [2023]Case Study File For b ed in Hindi PDF Download Free

नीचे दिए गए कुछ Exams जिसमें साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होगी:

CTET, TET, STET, UGCNET, SET, UPTET, KVS, RTET, MPTET, TSTET, TNTET, BTET, KVPY,
ASRB NET, Non-Teaching Government Exams.

साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF
साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF Download 2023-24

साइकोलॉजी हिंदी नोट्स PDF

नीचे दी गई टेबल की बाईं तरफ डाउनलोड नाउ बटन पर क्लिक कर आप साइकोलॉजी हिंदी नोट्स फ्री PDF को आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

PDF NAMEसाइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF Download 2023-24
CategoryEducation
Pages258
Size12 MB
Download LinkAvailable
Website Linkwww.pdfsamadhan.com
साइकोलॉजी हिंदी नोट्स
DOWNLOAD NOW

साइकोलॉजी क्या है? | Meaning Of Psychology

साइकोलॉजी एक रोमांचक और विचारपूर्ण विज्ञान है जो लोगो के मानसिक प्रक्रियाओं, व्यवहार, और विचारों के बारे में अध्ययन करता है।

साइकोलॉजी को हिंदी में “मनोविज्ञान” कहा जाता है, यह एक रोचक और गहरा विषय है, जिसमें हम मानवीय व्यवहार, भावनाएँ, और मानसिक प्रक्रियाओं को समझने का प्रयास करते हैं।

यह एक विशेष विषय है जिसमें हम मानव दिमाग की गहराइयों में जा कर समझने का प्रयास करते हैं, साइकोलॉजी में हम मनोवैज्ञानिकों, तथा उनके प्रयोग का विस्तार पूर्वक अध्ययन करते हैं।

साइकोलॉजी शब्द सबसे पहले दार्शनिक रुडोल्फ गोएकेल ने दिया।

साइकोलॉजी के पिता विलियम वाउल्डन’ट को माना जाता है।

इस लेख में, हम साइकोलॉजी के महत्व, विभिन्न शाखाएँ, और इसके अध्ययन करने के फायदे के बारे में चर्चा करेंगे।

साइकोलॉजी का महत्व | Importance Of Psychology

साइकोलॉजी का महत्व विश्वभर में मानव विकास और समाज के लिए है। यह हमें मानव व्यवहार को समझने में मदद करता है,

साइकोलॉजी की मदद से हम विश्व भर में समाज में सुधार व शांति ला सकते हैं, साइकोलॉजी का महत्व दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है।

साइकोलॉजी का महत्व विभिन्न क्षेत्रों में होता है जैसे बिजनेस, एजुकेशन, टेक्नोलॉजी, आदि तो यह तो निश्चित है कि साइकोलॉजी एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है जिसे हम सभी के द्वारा पढ़ा जाना चाहिए।

यह भी पड़े- 50000 GK Question PDF in Hindi Free Download [2023]

साइकोलॉजी के प्रकार | Types Of Psychology

साइकोलॉजी मूलत: चार प्रकार की होती है

  • नैदानिक ​​मनोविज्ञान (clinical psychology)
  • संज्ञानात्मक मनोविज्ञान (cognitive psychology)
  • व्यवहारिक मनोविज्ञान (behavioural psychology)
  • जैव मनोविज्ञान (biopsychology)

साइकोलॉजी के शीर्ष 5 तथ्य

  1. मानव मस्तिष्क की जटिलता: साइकोलॉजी मानव मस्तिष्क की जटिल कार्यप्रणाली का अध्ययन है।
  2. बचपन के अनुभवों का प्रभाव: प्रारंभिक बचपन के अनुभवों को मनोवैज्ञानिकों द्वारा लंबे समय से किसी व्यक्ति के विकास और व्यवहार पर पर्याप्त प्रभाव डालने के रूप में स्वीकार किया गया है।
  3. साइकोलॉजी में धारणा: अपने आस-पास के वातावरण के बारे में व्यक्तियों की धारणाओं का उनके विचारों और व्यवहार पर जबरदस्त प्रभाव पड़ता है।
  4. पर्यावरण व पालन पोषण: यह मानव विकास में आनुवंशिकी और पर्यावरण की सापेक्ष भूमिकाओं की जांच करता है।
  5. मानव व शरीर का संबंध: साइकोलॉजी मन और शरीर के बीच के जटिल संबंधों की जांच करता है।

साइकोलॉजी के कुछ जाने-माने मनोवैज्ञानिक

सिगमंड फ्रायड:

यह “मनोविश्लेषण के जनक” के रूप में जाने जाते हैं, सिगमंड फ्रायड ने अचेतन मन, स्वप्न विश्लेषण और व्यक्तित्व संरचना पर सिद्धांतों को परिभाषित किया।

सिगमंड फ्रायड ने मन के तीन प्रकार बताए थे:

  • चेतन
  • अर्द्ध चेतन
  • अचेतन

सिगमंड फ्रायड ने मानव व्यक्तित्व को तीन भागों में विभाजित किया था

  • Id
  • Ego
  • Super Ego

बी.एफ. स्किनर:

बी.एफ.स्किनर हार्वर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले एक शिक्षक व मनोवैज्ञानिक थे जिन्होंने अपना प्रयोग चूहे वह कबूतर पर किया था।

बी.एफ.स्कैनर ने पुनर्बलन का सिद्धांत दिया था जिसे क्रिया प्रस्तुत अनुबंध का सिद्धांत भी कहा जाता है।

एडवर्ड थार्नडाइक:

यह एक पशु वैज्ञानिक थे जिन्होंने शैक्षिक मनोविज्ञान में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई,

एडवर्ड थार्नडाइक ने “अधिगम का सिद्धांत” दिया जिसमें इन्होंने अपना प्रयोग भूखी बिल्ली पर किया।

साथ ही इन्होंने S.R. Bond Theory को भी परिभाषित किया, जिसमें S का मतलब स्टीमुलस (Stimulus) व R का मतलब रिस्पांस (Response)

अधिगम के सिद्धांत को संबंधवाद वह उद्दीपक अनुक्रिया का सिद्धांत भी कहते हैं, एडवर्ड थार्नडाइक ने अधिगम के सिद्धांत में दो मुख्य नियम दिए:

मुख्य नियम व गौण नियम

जीन पियाजे:

जीन पियाजे स्विट्जरलैंड के एक चिकित्सक थे, जिन्होंने संज्ञानात्मक विकास का सिद्धांत दिया, व यह पहले वैज्ञानिक थे जिन्होंने अपने बच्चों पर प्रयोग किया।

जीन पियाजे ने विकास को चार अवस्थाओं में विभाजित किया जिनमें- संवेदीगामक अवस्था(0-2), पूर्व संक्रियात्मक अवस्था(2-7), मूर्ति संक्रियात्मक अवस्था(7-11), अमूर्त संक्रियात्मक अवस्था(11-15) इन चार अवस्थाओं का उल्लेख किया।

इवान पावलव:

यह रूस के साइंटिस्ट थे, व यह प्रथम मनोवैज्ञानिक भी थे जिन्हें 1904 में मेडिसिन में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

इन्होंने अपना प्रयोग कुत्ते की पाचन क्रिया पर किया, इनके प्रयोग को शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत व अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत भी कहा जाता है।

लेव वायगोत्स्की:

इन्होंने साइकोलॉजी विषय के बारे में बहुत ही महत्वपूर्ण सिद्धांत दिए जो की सामाजिक व सांस्कृतिक संज्ञान वादी सिद्धांत के नाम से जाने जाते हैं।

इन्होंने समाज में रहकर चीजों को सिखाना वह अंत है क्रिया करके सीखने पर जोर दिया।

उनके सिद्धांत को ZPD (Zone Of Proximal Development) के नाम से भी जाना जाता है।

साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF वीडियो के द्वारा पढ़ें

FAQ- साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF

साइकोलॉजी का मतलब क्या होता है?

किसी के मन व व्यवहार को समझने की प्रक्रिया को साइकोलॉजी कहते हैं।

साइकोलॉजी का उपयोग कहाँ और कैसे होता है?

साइकोलॉजी का उपयोग हम मानव जीवन में बिजनेस, टेक्नोलॉजी, एजुकेशन व समाज को समझने में करते हैं।

सिगमंड फ्रायड कौन है?

सिगमंड फ्रायड एक मनोवैज्ञानिक है जिन्होंने मनोविश्लेषणात्मक सिद्धांत दिया।

साइकोलॉजी कैसे सीखे?

साइकोलॉजी सीखने के लिए आप एजुकेशनल साइकोलॉजी किताब को पढ़ें।

साइकोलॉजी कितने प्रकार की होती है

साइकोलॉजी चार प्रकार की होती है: नैदानिक ​​मनोविज्ञान, संज्ञानात्मक मनोविज्ञान, व्यवहारिक मनोविज्ञान, जैव मनोविज्ञान

अंतिम शब्द

तो दोस्तों यह था साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF के बारे में संपूर्ण जानकारी यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप हमें कमेंट कर बताएं और यदि आपको साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF को डाउनलोड करने में कोई समस्या आ रही हो तो आप हमें मेल करें।

यदि आप यह चाहते हैं कि हम आपके लिए इसी प्रकार की तमाम महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध कारण तो आप हमें कमेंट कर बताएं हम आपके लिए इसी प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारी फ्री में लेकर आएंगे।

धन्यवाद

Also, read

6 thoughts on “साइकोलॉजी हिंदी नोट्स FREE PDF Download 2023-24”

Leave a comment